Navsatta
खास खबरमनोरंजन

एंड पिक्चर्स एचडी पर देखिए समाज को झकझोर देने वाली कहानियाँ- ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ का वर्ल्ड एचडी प्रीमियर

लखनऊ,नवसत्ता: हमारी ज़िंदगी में सिनेमा की मौजूदगी हमें विचारोत्तेजक कहानियां और स्पष्ट नजरिया देती हैं. इसी सोच को आगे बढ़ाते हुए एंड पिक्चर्स एचडी इस जनवरी आपके टीवी स्क्रीन्स पर आलोचकों द्वारा सराही गई फिल्मों ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ के एचडी फर्स्ट प्रीमियर लेकर आ रहा है. ‘मेक इन इंडिया’ का नारा बुलंद करते हुए डायरेक्टर दिनेश यादव ने फिल्म ‘वाह ज़िंदगी’ में एक उभरते व्यवसायी की कहानी दिखाई है, जो एक ऐसे बाजार में जगह बनाने की कोशिश कर रहा है, जिसमें विदेशी माल की भरमार है.

सच्ची कहानियों से प्रेरित ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ भारत की जड़ों में गहरे तक समाई समस्याओं की कहानियां दिखाती हैं

इसके अलावा, दिनेश राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने वाली अपनी फिल्म ‘टर्टल’ के साथ राजस्थान में आधारित एक दिलचस्प कहानी के जरिए जल संरक्षण की जरूरत पर रोशनी डालते हैं. तो 6 जनवरी को रात 8 बजे ‘वाह ज़िंदगी’ के एचडी फर्स्ट प्रीमियर के साथ देखिए एक एंटरप्रेन्योर की रोमांचक कहानी, और इसके बाद 20 जनवरी को रात 8 बजे एक दिलचस्प सोशल ड्रामा ‘टर्टल’ का एचडी फर्स्ट प्रीमियर देखिए. दर्शक ‘वाह ज़िंदगी’ 7 जनवरी को सुबह 8.30 बजे एंड पिक्चर्स पर और रात 8 बजे ज़ी सिनेमा एचडी पर भी देख सकते हैं. इस तरह फिल्म ‘टर्टल’ 21 जनवरी को सुबह 9 बजे एंड पिक्चर्स पर और रात 8 बजे ज़ी सिनेमा एचडी पर देखी जा सकती है.

अशोक चौधरी की शिवाज़्ज़ा फिल्म्स एंड एंटरटेनमेंट के निर्माण में बनी ये दोनों मानवीय कहानियां – ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ ऐसे लोगों पर केंद्रित हैं, जो जमीनी स्तर पर अलग-अलग पस्थितियों का सामना कर रहे हैं. दोनों कहानियों में बड़ी खूबसूरती से समाज की हकीकत दिखाई गई है, जिसके लिए इन्हें दुनियाभर में सराहा गया. ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ में संजय मिश्रा, नवीन कस्तूरिया, विजय राज़, मनोज जोशी और प्लबिता बोरठाकुर जैसे कलाकार प्रमुख भूमिकाओं में हैं. इन टैलेंटेड कलाकारों की बेमिसाल अदाकारी के चलते फिल्म ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ को कई फिल्म फेस्टिवल्स में शानदार रिस्पॉन्स मिला.

अपनी फिल्मों के बारे में बात करते हुए संजय मिश्रा ने कहा, “मैं ऐसी कहानियां चुनता हूं, जिनके कुछ मायने होते हैं. जहां मैं ऐसे किरदार निभाता हूं जो दर्शकों से बेहतर तरीके से जुड़ते हैं, वहीं ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ जैसी फिल्में मुझे एक कलाकार के तौर पर मुकम्मल बनाती हैं. दिनेश, विजय राज़, मनोज जोशी और नवीन जैसे कलाकारों के साथ काम करना बड़ा संतोषजनक रहा. हम सभी सेट पर बढ़िया वक्त गुजारते थे. मैं यह जानकर बेहद खुश हूं कि ये दोनों फिल्में, जो मेरे दिल के करीब हैं, अब टीवी के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा दर्शकों पर तक पहुंचेगी.”

वाह ज़िंदगी के बारे में चर्चा करते हुए नवीन कस्तूरिया ने कहा, “मैं ऐसी कहानियों से जुड़ता हूं, जो घटनाओं से परे देखती हैं. ‘वाह ज़िंदगी’ अपनी अनोखी स्टोरी-टेलिंग और एक प्रभावशाली संदेश के साथ लोगों से जुड़ती है. सिनेमा में स्टोरी-टेलिंग का यही जादू हर दिन मुझे जगाता है और ऐसी खूबसूरत कहानियों का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित करता है. हमारी फिल्म को दुनिया भर के आलोचकों और दर्शकों से मिले जबर्दस्त रिस्पॉन्स से मैं बेहद खुश हूं. मैं एंड पिक्चर्स एचडी पर इस फिल्म के एचडी फर्स्ट प्रीमियर को लेकर भी बेहद उत्साहित हूं क्योंकि ये फिल्में जागरूकता लाएंगी और एक चर्चा छेड़ेंगीं.”

विजय राज़ ने कहा, “यदि ‘मेक इन इंडिया’ पहले आया होता, तो आज स्थिति कुछ अलग होती. आपको फिल्म ‘वाह ज़िंदगी’ खुले दिमाग से देखनी चाहिए और यह फिल्म यकीनन दर्शकों का नजरिया बदलेगी. ‘वाह ज़िंदगी’ के जरिए अशोक और दिनेश जो बताना चाहते थे, वो उसे लेकर बिल्कुल स्पष्ट थे. मैंने यह फिल्म की क्योंकि मैं चाहता था कि यह फिल्म ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे. ऐसी शानदार टीम के साथ काम करना भी बड़ा मजेदार था, जिन्होंने कहानी को उसकी पूरी विश्वसनीयता के साथ सामने लाया.”

अपनी दोनों फिल्मों को मिले जबर्दस्त रिस्पॉन्स को लेकर दिनेश एस यादव बताते हैं, “जब से मैं फिल्म मेकिंग में आया हूं, तब से ही ऐसी फिल्में बनाने की तरफ मेरा रुझान रहा है, जिसमें कुछ सार्थक दिखाया जाता है. मेरा झुकाव सामाजिक फिल्मों की तरफ ज्यादा है, और किस्मत से मेरी मुलाक़ात श्री अशोक चौधरी से हुई जिनका नजरिया भी वही था. हम दोनों ने इस सामाजिक पहल में अपना योगदान देने के लिए ‘वाह ज़िंदगी’ और ‘टर्टल’ जैसी फिल्में कीं. हम ‘टर्टल’ को शूट करने के लिए राजस्थान में अंदर तक पहुंचे, वहां असहनीय गर्मी का सामना किया, लेकिन फिर भी अपने काम की गुणवत्ता प्रभावित नहीं होने दी और यह वाकई बहुत शानदार था. मेरी पूरी टीम और पूरे कलाकार इस फिल्म से एक हो गए थे और सभी के सपोर्ट से आज हम यह फिल्म बना पाए हैं.”

इन दोनों फिल्मों के प्रोड्यूसर अशोक चौधरी ने कहा, “शुरुआत से ही मेरा लक्ष्य ऐसी फिल्में बनाने का था जो दर्शकों को प्रेरित करें, उनका मनोरंजन करें और उन्हें सही जानकारी दें. यदि हम विषय की गहराई में जाएंगे तो हमें इस कहानी में कई परतें मिलती हैं और इसीलिए हमें इसकी स्क्रिप्ट पर काम करने में ढाई साल का समय लग गया. ये पल-पल का सफर था, लेकिन आखिर हमें वो प्रोडक्ट मिल गया, जो हम चाहते थे. जब ‘टर्टल’ को राष्ट्रीय पुरस्कार मिला और इसे दुनिया भर में सराहा गया, तो वो हमारे लिए गर्व का पल था. मुझे यकीन है कि ‘वाह ज़िंदगी’ की कहानी युवाओं का हौसला बढ़ाएगी, क्योंकि ‘स्वदेशी’ और ‘मेक इन इंडिया’ भारत को आत्म-निर्भर बनाने का एकमात्र तरीका है और यही समय की मांग भी है.”

फिल्म ‘वाह ज़िंदगी’ मेक इन इंडिया की थीम पर आधारित है. ये किसान परिवार के एक गरीब लड़की की कहानी है, जो अपना खुद का बिज़नेस शुरू करना चाहता है और अपनी पसंद की लड़की से शादी करना चाहता है. हालांकि कई सालों की मेहनत और संघर्ष के बाद भी उसे सफलता नहीं मिलती, क्योंकि चीनी उत्पाद भारतीय बाजारों में घुसपैठ बना लेते हैं और भारतीय उद्योगों और व्यापारों पर ताला लग जाता है. इसके बाद शुरू होती है, देशी उत्पादों के साथ बाजार में अपनी जगह बनाने की जंग.”

अगली कहानी ‘टर्टल’ रामकरण के संघर्ष के जरिए भीषण जल संकट की एक दिल छू लेने वाली दास्तान बयां करती है. रेगिस्तान की गहराइयों में खोदकर पानी निकालने के गांव वालों के संघर्षों के बाद रामकरण एक कुआं बनाने का फैसला करता है. हालांकि उसके पोते के जन्म के समय ही वो कुआं सूख जाता है और गांव वाले इस विपत्ति के लिए इस नवजात बच्चे को दोषी ठहराते हैं. इसके बाद रामकरण इस भ्रम को दूर करने का फैसला करता है और एक ज़िंदगी बदल देने वाले सफर पर चल पड़ता है.

तो इस जनवरी देखिए ‘वाह ज़िंदगी’ का एचडी फर्स्ट प्रीमियर 6 जनवरी को रात 8 बजे और ‘टर्टल’ 20 जनवरी को रात 8 बजे, एंड पिक्चर्स एचडी पर.

संबंधित पोस्ट

सूरजमुखी की खरीद को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों की सरकार ने मानी मांग

navsatta

जिस अस्पताल में जन्मे, उसी में सेवारत हैं सर्जन डॉ गुलाम नबी

navsatta

यूपी पुलिस का दावा, 15 अगस्त से पहले थी कई शहरों को दहलाने की आतंकी साजिश

navsatta

Leave a Comment