Navsatta
ऑफ बीटखास खबर

हेल्थ और टर्म इंश्योरेंस से ऐसे प्राप्त करें टैक्स बेनिफिट्स

लखनऊ,नवसत्ता: पिछले दो वर्षों ने सेहतमंद और सुखमय जीवन जीने के लिए स्वास्थ्य बीमा की जरूरत और महत्त्व समाज को समझाया है. जहां एक ओर मजबूत इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा प्रणाली ) और स्वस्थ जीवन शैली हमें संक्रमण और वायरस के हमलों से बचाती है, वहीं दूसरी तरफ एक सही बीमा कवरेज आपके और आपके परिवार को अचानक आने वाले चिकित्सा खर्च से सुरक्षा की गारंटी देता है.

2021 की समाप्ति और नए वर्ष के उत्साह के साथ यह नई-नई योजनाओं का स्वागत करने का समय है. अर्थात यह समय स्वास्थ्य और टर्म पॉलिसियों के निरीक्षण, नवीनीकरण, कवरेज डिटेल की समीक्षा और मुख्य तौर पर टैक्स बेनिफिट्स के लाभ उठाने के लिए बिलकुल सही है.

पॉलिसी बाजार डॉट कॉम के प्रमुख-स्वास्थ्य बीमा अमित छाबड़ा ने कहा, “किसी व्यक्ति के लिए अपने लक्ष्य को लेकर बचत शुरू करने से पहले आवश्यक है कि उसके पास अपने और अपने परिवार के लिए पर्याप्त स्वास्थ्य बीमा कवर हो. जिसका पहला कारण भारी-भरकम बिलों और दवाओं के लिए आर्थिक रूप से सुरक्षित होना है और दूसरा, स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों के लिए भुगतान किये जाने वाले प्रीमियम से मिलने वाला टैक्स बेनिफिट है, जो आयकर अधिनियम की धारा 80डी के तहत प्रदान किया जाता है.”

अगर आपके पास स्वयं या बच्चों अथवा माता-पिता के लिए स्वास्थ्य बीमा कवरेज होती है तो आपके लिए इनकम टैक्स आय और इनकम टैक्स लायबिलिटी (कर देयता) कम हो जाती है. कोई भी टैक्स में मिलने वाली इस कटौती (टैक्स बचत) का लाभ उठा सकता है, फिर चाहे आपके माता-पिता या बच्चे आप पर निर्भर हों या नहीं.

सज्जा प्रवीण चौधरी, हेड- टर्म लाइफ इंश्योरेंस, पॉलिसी बाजार डॉट कॉम ने कहा, “यदि आप टर्म इंश्योरेंस खरीदते हैं, जो कि जीवन बीमा का सबसे सरल रूप है तो यह आपके परिवार को एक निश्चित अवधि के लिए सबसे सस्ती दरों पर आर्थिक सुरक्षा प्रदान करता है. साथ ही आपको धारा 80 सी और 10 (10डी) के तहत मिलने वाले टैक्स बेनिफिट्स भी प्राप्त होते हैं. आयकर अधिनियम 1961 की धारा 10(10डी) के तहत, टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के डेथ बेनिफिट को भी आयकर द्वारा छूट दी गई है, लेकिन ऐसा केवल तभी होता है. जब बीमित राशि भुगतान किए गए वार्षिक प्रीमियम का कम से कम दस गुना होती है.”

आप धारा 80डी के तहत अप्रत्यक्ष रूप से टर्म इंश्योरेंस का लाभ भी उठा सकते हैं. उदाहरण के तौर पर, यदि आपने जीवन बीमा खरीदते समय एक अतिरिक्त चिकित्सा कवर को भी साथ में चुना था, जैसे कि गंभीर बीमारी या सर्जिकल देखभाल कवर, तो आप टर्म इंश्योरेंस प्रीमियम और स्वास्थ्य बीमा कवर दोनों में लाभ प्राप्त कर सकते हैं, जिससे आगे टैक्स में भी बचत मिलती है.

स्वास्थ्य बीमा कवरेज के मामले में टैक्स में अधिकतम बचत सीमा बीमित व्यक्ति की आयु पर निर्भर करती है. उदाहरण के लिए, यदि बीमित व्यक्ति 60 वर्ष से कम आयु का है, तो वह अधिकतम टैक्स बचत के रूप में 25,000 रु प्रति वर्ष तक का लाभ उठा सकता है और यदि बीमित व्यक्ति की आयु 60 वर्ष से अधिक है, तो यह सीमा  50,000 रु प्रति वर्ष तक हो सकती है. इसके अलावा अगर आप और आपके माता-पिता दोनों की आयु 60 वर्ष से अधिक है, तो ऐसे में आप अधिकतम 1, 00,000 रु प्रति वर्ष तक की टैक्स बचत प्राप्त कर सकते हैं.

टर्म इंश्योरेंस में, आप सालाना 1.5 लाख रुपये तक के भुगतान किए गए प्रीमियम पर छूट का दावा कर सकते हैं. हालांकि, केवल व्यक्तिगत और हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) ही टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर कटौती के लिए दावा करने के योग्य होते हैं.

यदि आपके पास स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी है, तो आप स्वास्थ्य जांच के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर लाभ पा सकते हैं. उदाहरण के तौर पर, यदि कोई व्यक्ति 25,000 रुपये का प्रीमियम और 10,000 रु की स्वास्थ्य जांच भरता है तो वह 35,000 रुपये तक की टैक्स बचत पा सकता है.

हालांकि, हर कोई टैक्स बचत प्राप्त करने के योग्य होता है लेकिन इसके बावजूद एक कारण से पॉलिसीधारक को टैक्स का भुगतान करना पड़ सकता है. दरअसल, ऐसा तब होता है. जब आप तुरंत भुगतान करने का लाभ न पाने का विकल्प चुनते हैं. ऐसी स्थिति में, बीमा कंपनी भुगतान होने तक राशि रोक देती है. वह इसे केवल ब्याज संचय की अवधि के बाद वितरित करती है, जो टैक्स में बचत दिलाता है.

पुनर्पूंजीकरण करने के लिए, धन की बचत प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है और टैक्स की बचत तथा टैक्स लायबिलिटी को कम करना इसका एक प्रमाणित तरीका है. इसलिए, आपके द्वारा खरीदा गया स्वास्थ्य और टर्म इंश्योरेंस प्लान आपके लिए बुलेटप्रूफ जैकेट के रूप में काम करता है, जो आपकी मेहनत की कमाई को टैक्स के माध्यम से बचाता है और अचानक आने वाले आर्थिक संकट से भी आपकी रक्षा करता है. इसके अलावा, बढ़ती चिकित्सा लागत के साथ, यह पॉलिसी निश्चित रूप से आपके और आपके प्रियजन के लिए एक मूल्यवान उपहार है. इसलिए इसका चुनाव करने से पहले ऑनलाइन सर्च करें, विभिन्न कंपनियों के कवरेज की तुलना करें और अंत में टैक्स बेनिफिट्स प्राप्त करने के लिए सही हेल्थ और टर्म इंश्योरेंस का चुनाव करें.

संबंधित पोस्ट

“अफसोस आपन यूपी रहा फिसड्डी” गोवा में मिशन जल जीवन योजना पूरी, पीएम मोदी ने दी बधाई

navsatta

इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल्स में फीचर फिल्म ‘द रेपिस्ट’ होगी प्रदर्शित

navsatta

राष्ट्रीय फलक पर चमक गया मेरठ का ‘कबाड़ से जुगाड़’

navsatta

Leave a Comment