Navsatta
खास खबरचर्चा मेंन्यायिकमुख्य समाचारस्वास्थ्य

सुल्तानपुरः भाजपा नेता के चचेरे भाई ने की डॉक्टर की पीट-पीटकर हत्या, विपक्ष ने उठाए कानून व्यवस्था पर सवाल

लखनऊ/सुल्तानपुरः यूपी के सुल्तानपुर में जमीनी विवाद में एक चिकित्सक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। घटना कोतवाली नगर क्षेत्र की है। इस मामले में भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के भतीजे पर आरोप लगा हैं। घटना के पीछे जमीनी विवाद में पैसे का लेन-देन बताया जा रहा है। पुलिस पूरे मामले में जांच करते हुए शव को पोस्टमार्टम में भेजकर विधिक कार्रवाई शुरू कर दी है। घर के बाहर ही हमलावरों ने उनके ऊपर हमला किया। एसपी समेत आला अफसरों ने डॉक्टर की पत्नी का बयान दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

मारने के बाद बदमाशों ने टेम्पो से घर भेजा डाक्टर को
मिली जानकारी के अनुसार कोतवाली नगर के शास्त्री नगर के रहने वाले मृतक डॉक्टर घनश्याम तिवारी शनिवार शाम घर से निकले थे। जहां उन पर कुछ बदमाशों ने उनके ऊपर प्राण घातक हमला कर दिया। हमलावरों ने चिकित्सक का हाथ तक तोड़ डाला था, इसके बाद बदमाशों ने टेम्पो से डाक्टर को घर भी भेजा था।

बब्बन सिंह का भतीजा है है अजय नारायण सिंह
पत्नी के मुताबिक, नारायणपुर के रहने वाले अजय नारायण सिंह ने पति की पिटाई की है, जिसके चलते मौत हुई है। अजय नारायण सिंह, बीजेपी के पूर्व जिलाध्यक्ष गिरीश नारायण सिंह उर्फ बब्बन सिंह का भतीजा है। घटना की जानकारी लगते ही पूर्व विधायक देवमणि द्विवेदी और जिलाध्यक्ष डॉ. आरए वर्मा जिला अस्पताल पहुंचे और हत्या रोपी पर सख्त कार्रवाई की मांग की। पुलिस का कहना है कि मामले में जांच की जा रही है।

विपक्ष ने प्रदेश सरकार पर उठाए सवाल
भाजपा नेता के चचेरे भाई द्वारा चिकित्सक घनश्याम तिवारी की हत्या पर घिरी योगी सरकार, सपा और आप ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर उठाया सवाल, समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर कहा-यूपी में जंगलराज व्याप्त, मुख्यमंत्री जी आरोपी की संपत्तियों पर कब चलेगा आपका बुलडोजर, आप सांसद संजय सिंह ने तंज कसा कि डबल इंजन की सरकार में चरम पर अपराध।

भाजपा जिलाध्यक्ष समेत पुलिस के अधिकारी पहुंचे अस्पताल
जहां से पत्नी उन्हें लेकर राजकीय मेडिकल कॉलेज पहुंचीं वहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना लगते ही  भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. आरए मिश्रा समेत पुलिस के अधिकारी अस्पताल पहुंचे और परिवार वालों को ढाढस बंधाया। चिकित्सक की पत्नी निशा तिवारी ने बताया कि जमीनी विवाद में हमारे पति की हत्या कर दी गई है। उन्होंने विद्या मंदिर के पीछे जमीन खरीदा था, जिसको लेकर आए दिन बवाल हो रहा था।

बेहद सीधे और सज्जन थे डॉ. घनश्याम
डॉक्टर घनश्याम तिवारी जयसिंहपुर सीएचसी पर संविदा पर मेडिकल ऑफिसर थे। करीब तीन वर्ष पहले उनकी तैनाती हुई थी। 56 वर्षीय तिवारी इसके पहले पीएचसी बेलहरी में भी रह चुके थे। शनिवार सुबह सीएचसी आए थे। करीब दो बजे वह सुल्तानपुर के लिए रवाना हो गए थे। मूल रूप से लंभुआ में सखौली कला गांव के निवासी डॉ. त्रिपाठी शास्त्रीनगर सुल्तानपुर में अपने परिवार के साथ रहते थे। उनके दो बेटे हैं। सीएचसी पर तैनात फार्मासिस्ट कयूम हदा अंसारी ने बताया कि वे बड़े सज्जन व्यक्ति थे। अपने काम से काम रखते थे उनका कभी किसी से कोई विवाद नहीं हुआ था।

संबंधित पोस्ट

Gyanvapi Case: ज्ञानवापी में कार्बन डेटिंग पर फैसला टला, अब 11 अक्टूबर को होगी सुनवाई

navsatta

लखनऊ में आयोजित फाइनेंशियल फ्रीडम कॉन्क्लेव में बना वर्ल्ड रिकॉर्ड

navsatta

जानियें गूगल पर क्यो लगा 936.44 करोड़ रुपये का जुर्माना

navsatta

Leave a Comment