Navsatta
खास खबरचर्चा मेंदेशमुख्य समाचार

पूर्व राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी का निधन

लखनऊ, नवसत्ताः पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल और यूपी विधानसभा के पूर्व स्पीकर पंडित केशरी नाथ त्रिपाठी का निधन हो गया है। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। 8 जनवरी सुबह करीब 5 बजे उन्होंने प्रयागराज में अपने आवास पर अंतिम सांस ली। उनकी तबीयत 30 दिसंबर को खराब हुई थी। सांस लेने में तकलीफ हुई तो उन्हें प्रयागराज के लोकसेवा आयोग चौराहा स्थित एक्यूरा क्रिटिकल केयर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। उन्हें आईसीयू में रखा गया था। फिर आराम मिलने पर घर लाया गया था।

सांस लेने में हो रही थी ज्यादा परेशानी
पंडित त्रिपाठी के बेटे नीरज त्रिपाठी के मुताबिक 30 दिसंबर से उनकी तबीयत खराब होने लगी थी। पारिवारिक डॉक्टर को घर पर ही बुलाकर दिखाया गया, लेकिन आराम नहीं मिला। उन्हें सांस लेने में ज्यादा दिक्कत हो रही थी। डॉक्टर की सलाह पर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।

सीएम ने व्यक्त किया शोक
मुख्यमंत्री ने पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल तथा प्रदेश विधान सभा के पूर्व अध्यक्ष केशरी नाथ त्रिपाठी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल तथा प्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष केशरी नाथ त्रिपाठी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। आज यहां जारी एक संदेश में मुख्यमंत्री जी ने कहा कि केशरी नाथ त्रिपाठी एक वरिष्ठ और अनुभवी राजनेता थे। वे संसदीय नियमों, परंपराओं और विधि के गहरे जानकार थे। त्रिपाठी एक विद्वान अधिवक्ता और संवेदनशील साहित्यकार भी थे। उनके निधन से समाज की अपूरणीय क्षति हुई है। मुख्यमंत्री जी ने ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शान्ति की प्रार्थना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

2014 से 2019 तक रहे बंगाल के राज्यपाल
केसरी नाथ त्रिपाठी (जन्म 10 नवंबर 1934) हुआ था। इसके साथ ही जुलाई 2014 से जुलाई 2019 तक पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के रूप में कार्य किया। उनके पास बिहार, मेघालय और मिजोरम के राज्यपाल के रूप में छोटे कार्यकाल के लिए अतिरिक्त प्रभार भी था। वे भारतीय जनता पार्टी के सदस्य थे। वे तीन बार उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष और भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष रहे थे।

दो बार हुए थे कोरोना संक्रमित
केशरीनाथ त्रिपाठी दो बार कोरोना पॉजिटिव हुए थे। लखनऊ के SGPGI में उनका लंबा इलाज भी चला था। इसके बाद वह स्वस्थ होकर घर आ गए थे। दरअसल, कुछ दिन पहले ही वह बाथरूम में फिसलकर गिर गए थे, जिससे उनका दाहिना हाथ फ्रैक्चर हो गया था। उसी के बाद से वह शारीरिक रूप से कमजोर हो गए थे। इसके बावजूद वह कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेते नजर आ रहे थे।

संबंधित पोस्ट

कोरोना का नया रूप डेल्टा वेरिएंट से भी ज्यादा खतरनाक, दो सैन्य अधिकारी सहित 7 संक्रमित

navsatta

दलित युवती की हत्या मामले में इंस्पेक्टर सस्पेंड, मंत्री के बेटे का करीबी गिरफ्तार

navsatta

TATA ने 2019 के चुनावों के लिए राजनीतिक दलों पर लुटाये 500 करोड़ से ज्यादा

Editor

Leave a Comment