Navsatta
ऑफ बीटक्षेत्रीयखास खबरराज्य

अंतरराष्ट्रीय मधुमेह दिवस पर हिदा ने मधुमेह जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया

लखनऊ,नवसत्ता: लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए डॉ अजय तिवारी, निदेशक जय क्लिनिक और मधुमेह देखभाल केंद्र, लखनऊ की अध्यक्षता में हेल्थ इनिशिएटिव एंड डायबिटीज एक्शन (एचआईडीए) ने आज बड़ा इमामबाड़ा के ऐतिहासिक रूमी गेट पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया.

कार्यक्रम में लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) बिपिन पुरी, पीवीएसएम, वीएसएम, वाइस चांसलर किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ मुख्य अतिथि थे, डॉ राजीव अवस्थी अध्यक्ष यूपी एपीआई, डॉ नरसिंह वर्मा अध्यक्ष उत्तर प्रदेश डायबिटीज एसोसिएशन, सचिव यूपी आरएसएसडीआई और राजेश वर्मा, अध्यक्ष, पेडल यात्री साइकिलिंग एसोसिएशन विशिष्ट अतिथि थे. संगठन ने 14 नवंबर को जनेश्वर मिश्र पार्क, गोमती नगर से रूमी गेट बड़ा इमामबाड़ा तक साइकिल रैली की भी योजना बनाई है.

हर साल अंतरराष्ट्रीय मधुमेह महासंघ दुनिया के प्रतिष्ठित स्मारकों को रोशन करके मधुमेह के खिलाफ विश्व पहल का नेतृत्व करता है. डॉ तिवारी ने कहा कि हिदा ने मधुमेह के खिलाफ इस लड़ाई में विश्व समुदाय के साथ खड़े होने के लिए लखनऊ के प्रतिष्ठित स्मारक रूमी गेट को रोशन करने की पहल की है.

डॉ तिवारी ने कहा कि 537 मिलियन वयस्क (20-79 वर्ष) मधुमेह के साथ जी रहे थे- 10 में से 1. उनमें से आधे का निदान नहीं किया गया है. उन्होंने कहा कि मधुमेह वाले 5 में से 4 (81प्रतिशत) वयस्क निम्न और मध्यम आय वाले देशों में रहते हैं. डॉ तिवारी ने आगे कहा कि 2021 में 6.7 मिलियन मौतों के लिए मधुमेह जिम्मेदार था- हर 5 सेकंड में 1.

डॉ तिवारी ने विश्व मधुमेह दिवस 2021-23 की थीम ‘मधुमेह देखभाल तक पहुंच’ की ओर इशारा करते हुए कहा कि इंसुलिन की खोज के 100 साल बाद, दुनिया भर में मधुमेह से पीड़ित लाखों लोग अपनी जरूरत की देखभाल नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि मधुमेह से पीड़ित लोगों को अपनी स्थिति का प्रबंधन करने और जटिलताओं से बचने के लिए निरंतर देखभाल और सहायता की आवश्यकता होती है. विशाल जनसंख्या बोझ के कारण, मधुमेह की अच्छी देखभाल के लिए बुनियादी ढांचे की कमी है, दुर्लभ संसाधनों का इष्टतम उपयोग समय की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि फिट इंडिया और योग दिवस जैसे सामान्य स्वास्थ्य संवर्धन कार्यक्रम मधुमेह को रोकने में काफी मददगार साबित होंगे.

डॉ तिवारी ने कहा कि 541 मिलियन वयस्कों में बिगड़ा हुआ ग्लूकोज टॉलरेंस (आईजीटी) है, जिसने उन्हें टाइप 2 मधुमेह के उच्च जोखिम में डाल दिया. दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में मधुमेह के साथ रहने वाले 90 मिलियन लोगों की स्थिति बहुत गंभीर है. उन्होंने कहा कि मधुमेह से पीड़ित लोगों के निदान और उपचार की तत्काल आवश्यकता है, गुणवत्तापूर्ण निवारक और चिकित्सीय देखभाल तक पहुंच समय की आवश्यकता है. डॉ तिवारी ने कहा कि मधुमेह को रोकने के लिए अपनाए जा सकने वाले कुछ बदलाव हैं- 7प्रतिशत वजन घटाने से मधुमेह की प्रगति में 58प्रतिशत की कमी आती है, फाइबर सेवन में वृद्धि -15 ग्राम प्रति दिन, वसा में 30प्रतिशत से कम की कमी, सेवन में वृद्धि साबुत अनाज फल और सब्जियां और शारीरिक व्यायाम सप्ताह में कम से कम 30 मिनट पांच बार.

डॉ तिवारी ने कहा कि गंभीर संकट को देखते हुए लोगों की सुरक्षा के लिए लोगों में जागरूकता जरूरी है. उन्होंने कहा कि हर साल इंटरनेशनल डायबिटीज फाउंडेशन (आईडीएफ) 14 नवंबर को विश्व मधुमेह दिवस मनाता है जिसका उद्देश्य लोगों में मधुमेह के बारे में जागरूकता पैदा करना है. उन्होंने कहा कि विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को मधुमेह से बचाव, नियंत्रण और इससे उत्पन्न होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में जागरूक किया जाता है. डॉ तिवारी ने लोगों से मधुमेह के प्रति जागरूकता और रोकथाम के प्रयासों में शामिल होने का आह्वान किया.

संबंधित पोस्ट

‘है इश्क वजह’ का ट्रेलर जारी

navsatta

पाकिस्तानी क्रिकेटर अनवर अली ने फर्स्‍ट क्लास क्रिकेट से लिया संन्यास

navsatta

सुप्रीम कोर्ट में पेगासस मामले की अगले हफ्ते हो सकती है सुनवाई

navsatta

Leave a Comment