Navsatta
खास खबरचुनाव समाचारमुख्य समाचारराजनीतिराज्य

अब तक फाइनल कांग्रेस के 100 टिकट में 60 महिलाओं को

लखनऊ,नवसत्ता: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी चुनाव 2022 के लिए महिलाओं के लिए अलग से घोषणा पत्र जारी किया है. इस मौके पर उन्होंने महिलाओं के लिए कई बड़ी घोषणाएं की. इसी के साथ उन्होंने बताया कि अभी तक जो 100 टिकट पार्टी ने फाइनल किये है उनमें 60 महिलाएं हैं.

इस मौके पर उन्होंने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने ही देश को पहली महिला प्रधानमंत्री दिया. अब जरूरी है कि महिलाओं को राजनीति में भी हिस्सेदारी दी जाए. ये काम कांग्रेस पार्टी करेगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 40 प्रतिशत सीटों पर महिला उम्मीदवार उतारने का निर्णय लिया है. उन्होंने उम्मीद जताई कि एक दिन संसद व विधानसभाओं में महिलाओं की 50 फीसदी हिस्सेदारी होगी.

प्रियंका गांधी ने कहा कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का 60 प्रतिशत बजट विज्ञापन में खर्च किया गया. सब ये जानते हैं कि देश की 60 फीसदी महिलाएं अगर अपनी शक्ति राजनीति में लगाई जाएगी तो सब बदल सकता है.

यूपी की 40 प्रतिशत सीटों पर महिला उम्मीदवार उतारेगी कांग्रेस, प्रियंका गांधी ने जारी किया महिलाओं के लिए अलग से घोषणा पत्र

साथ ही इस मौके पर उन्होंने कई बड़ी घोषणाएं की. उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग में 25 प्रतिशत महिलाओं को नौकरी दी जाएगी. हर थाने में महिला सिपाही की तैनाती की जाएगी. दुष्कर्म जैसे मामलों की जांच के लिए कमेटी बनाई जाएगी. प्रदेश के 25 शहरों में अत्याधुनिक छात्रावास बनाए जाएंगे. बीमारी के लिए 10 लाख रुपये तक की इलाज की व्यवस्था होगी. महिलाओं को सरकारी बसों में फ्री यात्रा की अनुमति होगी.

प्रियंका गांधी ने कहा कि राजनीति में महिलाओं की समुचित हिस्सेदारी समाज के स्वभाव, देश की राजनीति एवं शासन में बदलाव की कुंजी है. महिलाओं की इस राजनीतिक शक्ति से ही उत्तर प्रदेश का भविष्य बदलेगा. उन्होंने आगे कहा कि महिलाएं अब अन्याय सहने को तैयार नहीं हैं. इसलिए हमने महिला घोषणापत्र बनाया है. इसके छह हिस्से हैं: स्वाभिमान, स्वावलंबन, शिक्षा, सम्मान, सुरक्षा और सेहत.

इसके साथ ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि पिछले कई महीने में उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने प्रदेश भर की महिलाओं से सलाह-मशविरा किया और उनके लिए एक नई राह बनाने का खाका तैयार किया. शक्ति विधान गृहणियों, कॉलेज की लड़कियों, आशा और आंगनबाड़ी बहनों, स्वयं-सहायता समूह की बहनों, शिक्षिकाओं और प्रोफेशनल महिलाओं की आवाज का प्रतिबिंब है.

संबंधित पोस्ट

मोदी ने नाइट्रोजन संयंत्रों को ऑक्सीजन संयंत्रों में बदलने के काम की समीक्षा की

navsatta

भोजपुरी फिल्म ‘शिक्षा संदेश’ को सेंसर बोर्ड से मिला यू/ए प्रमाणपत्र

navsatta

जल जीवन मिशन ने बुंदेलखंड के बड़े हिस्से का जीवन बदला : पीएम मोदी

navsatta

Leave a Comment