Navsatta
अपराधखास खबरचर्चा मेंदेशराजनीतिराज्य

धर्मांतरण के कथित वीडियो मामले में एसआईटी जांच के आदेश

लखनऊ,नवसत्ता : उत्तर प्रदेश के सीनियर आईएएस अफसर इफ्तखारुद्दीन की कट्टरता वाली पाठशाला का वीडियो वायरल होने के बार योगी सरकार ने सख्त रूख अपनाया है. कानपुर के आईएएस श्री इफ्तखारुद्दीन के मामले में शासन द्वारा एसआईटी से जांच के दिए हैं. सरकार से जुड़े सूत्र बताते हैं कि पूरे मामले की जांच के बाद आईएएस अधिकारी पर बड़ी कार्रवाई हो सकती है. कानपुर में तैनात उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के चेयरमैन इफ्तिखारुद्दीन के मामले में एसआईटी जांच के आदेश अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने दिए हैं. अवनीश अवस्थी ने बताया कि एसआईटी के अध्यक्ष डीजी सीबीसीआईडी जीएल मीणा और सदस्य एडीजी जोन भानु भास्कर होंगे. एसआईटी अपनी रिपोर्ट 7 दिन में शासन को प्रेषित करेगा.

दरअसल प्रदेश के सीनियर आईएएस अफसर इफ्तखारुद्दीन की कट्टरता वाली पाठशाला का वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है. जानकारी के मुताबिक, यह वायरल वीडियो उस समय का है जब इफ्तखारुद्दीन कानपुर के कमिश्नर थे और उसी दौरान उन्होंने कट्टरता परोसने में माहिर कुछ अपने मौलानाओं को अपने सरकारी बंगले पर बुलाकर इस पाठशाला का आयोजन किया था. जिसमें वह खुद भी कट्टरता की भूमिका में नजर आ रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के गृह विभाग ने ट्वीट कर दी जानकारी

वीडियो वायरल होने के बाद अब सीनियर आईएएस की शिकायत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंच चुकी है. अब यह भी आरोप लगाया जा रहा है कि इफ्तखारुद्दीन ने पद पर कार्यरत रहने के दौरान कट्टरता के साथ-साथ धर्मांतरण को भी बढ़ावा दिया.

संबंधित पोस्ट

डॉक्टर्स डे विशेष:जानिए अपने डॉक्टर के अनसुने किस्से,मिलिए रायबरेली सीएमओ डॉक्टर वीरेंद्र सिंह से

navsatta

स्वस्थ चिंतन से ही विकसित भारत का संकल्प पूरा होगा: मुख्यमंत्री

navsatta

पीएसी कांस्टेबलों के सशस्त्र पुलिस में स्थानांतरण पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगाई रोक

navsatta

Leave a Comment