Navsatta
क्षेत्रीयखास खबरदेशराजनीतिराज्य

गुजरात के 17वें मुख्यमंत्री बने भूपेंद्र पटेल, पीएम मोदी ने दी बधाई

अहमदाबा, नवसत्ता: विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले राज्य के शीर्ष पद से विजय रूपाणी के इस्तीफे के दो दिन बाद, भूपेंद्र पटेल ने सोमवार को गुजरात के 17वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। गुजरात के राजभवन में एक सादे समारोह में भूपेंद्र पटेल ने गृह मंत्री अमित शाह समेत बीजेपी के कई नेताओं की मौजूदगी में राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने भूपेंद्र पटेल को राज्य के नए मुख्यमंत्री पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। बताया गया कि बाद कैबिनेट मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी।
गुजरात के 17वें मुख्यमंत्री बनने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूपेंद्र पटेल को बधाई दी। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, भूपेंद्र भाई को गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने पर बधाई। मैं उन्हें वर्षों से जानता हूं और उनका अनुकरणीय कार्य देखा है, चाहे वह भाजपा संगठन में हो या नागरिक प्रशासन और सामुदायिक सेवा में, वह निश्चित रूप से गुजरात के विकास पथ को समृद्ध करेंगे।
पीएम मोदी ने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने पूर्व सीएम विजय रूपाणी के काम की सराहना की। पीएम मोदी ने कहा, सीएम के रूप में अपने पांच वर्षों के दौरान विजय रूपाणी ने कई लोगों के अनुकूल उपाय किए हैं। उन्होंने समाज के सभी वर्गों के लिए अथक परिश्रम किया। मुझे विश्वास है कि वह आने वाले समय में भी जनसेवा में अपना योगदान देते रहेंगे।
डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने दी भूपेंद्र पटेल को बधाई
गुजरात के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी नेता नितिन पटेल ने कहा कि, भूपेंद्र पटेल मेरे पुराने पारिवारिक मित्र हैं। मैंने उन्हें बधाई दी। उन्हें सीएम के रूप में शपथ लेते देखकर हमें खुशी होगी। जरूरत पडऩे पर उन्होंने मेरा मार्गदर्शन भी मांगा है। वहीं उन्होंने सीएम न बनाए जाने की नारजगी के सवाल पर कहा, नए मुख्यमंत्री नहीं चुने जाने पर मैं बिल्कुल नाराज़ नहीं हूं।मैं 18 साल से जन संघ से लेकर आज तक बीजेपी का कार्यकर्ता हूं और रहूंगा।।कोई जगह मिले या नहीं, वो बड़ी बात नहीं है लोगों का प्रेम और सम्मान मिले वही बड़ी बात है।
एक राजनीतिक विश्लेषक के अनुसार राजनीतिक हलकों में मुख्यमंत्री के लिए जिन नामों की अटकलें चल रही थी, उनमें कहीं भी एक बार के विधायक भूपेंद्र पटेल का नाम नहीं था। पटेल को मृदुभाषी कार्यकर्ता के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने नगरपालिका स्तर के नेता से लेकर प्रदेश की राजनीति में शीर्ष पद तक का सफर तय किया है।
पटेल 2017 के विधानसभा चुनाव में राज्य की घाटलोडिया सीट से पहली बार चुनाव लड़े थे और जीते थे। उन्होंने कांग्रेस के शशिकांत पटेल को एक लाख से अधिक वोटों से हराया था, जो उस चुनाव में जीत का सबसे बड़ा अंतर था। सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा रखने वाले पटेल पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के करीबी माने जाते हैं। आनंदीबेन 2012 में इसी सीट से चुनाव जीती थीं।

संबंधित पोस्ट

नशे के खिलाफ निर्णायक अभियान से जुड़ें युवा : सीएम योगी

navsatta

मिल एरिया थाना इलाके में दो शातिर चोर गिरफ्तार,चार किलो चांदी समेत अन्य जेवरात व नगदी बरामद

navsatta

“देर न करे एक जिम्मेदार नागरिक का निभाए फर्ज” कोविड की द्वितीय लहर से बचाव व जागरूकता के लिए सूचना विभाग द्वारा एलईडी वैन व होर्डिंग के माध्यम से किया जा रहा है जागरूक

navsatta

Leave a Comment