Navsatta
खास खबर

सुल्तानपुर चिकित्सक हत्या काण्ड पर किसान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष जगदीश सिंह ने जताया आक्रोश, व्यक्त किया अपना विचार

रमाकांत बरनवाल 
सुलतानपुर , ( नवसत्ता ) :- सुलतानपुर में चिकित्सक डा घनश्याम तिवारी की निर्मम हत्या पर जहां पूरा जनपद उद्वेलित है व अपराधियों को सख्त सजा दिए जाने की मांग हो रही है और इस प्रकरण को लेकर ब्राह्मण समाज से जुड़े सामाजिक संस्थाओं ने श्रद्धांजलि सभा का आयोजन भी शहर के तिकोनिया पार्क में आयोजित किया जहां उपस्थित नेताओं ने अपनी अपनी भड़ास भी निकाला जहां किसी ने कहा हम निपटना जानते हैं किसी ने अपराधियों को चैन से जीने नहीं देने की कसमें भी खायीं वहीं पूर्व जिला पंचायत सदस्य किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जगदीश सिंह ने  नवसत्ता समाचारपत्र के साथ अपने विचार साझा किया व अपना उद्गार  व्यक्त किया।
संवाददाता से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि ऐसी वीभत्स घटनाएं अत्यंत कष्टप्रद हैं व निन्दनीय है जिसमें आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त सजा व कार्रवाई होनी चाहिए जिससे आगे किसी के भी साथ ऐसी घटनाएं न हों। श्री सिंह ने कहा कि यह घटना भाजपा से जुड़े लोगों के परिवारजनों द्वारा कारित किए जाने का आरोप लगा जो अत्यंत निन्दनीय है वह इसलिए भी कि भाजपा अपराध पर नियंत्रण किए जाने का दम्भ भर जीरो टालेरेन्स की बात करती है जिस मिथक को भाजपा के परिवारजनों द्वारा ही खत्म किया जा रहा है उनपर कोई नियंत्रण नहीं और न तो उन्हें भाजपा की रीतिनीति से ही मतलब है। उन्होंने आगे कहा कि भाजपा के शासन में राजस्व अधिकारियों की देखरेख में उनके कर्मी लेखपाल आदि शहर में अवैध रूप से नजूल की जमीन पर भारी भरकम पैसे की वसूली कर उसपर आसानी से कब्जा करा रहे हैं तथा नजूल जमीन की खरीद बेची करा मोटी रकम वसूलते  हैं जिससे आए दिन विवाद खड़ा हो रहा है। उन्होंने कहा कि यह तो जांच का विषय है कि अवैध को वैध कराने वाले अधिकारी व राजस्व लेखपाल की हैसियत सुलतानपुर में रहते कैसे बढ़ रही है और वे अपने दलालों के माध्यम से कैसे मालामाल होते जा रहे हैं शासन को भी इस पर गम्भीरता से विचार करना होगा।
    श्री सिंह ने कहा कि डा घनश्याम तिवारी की हत्या भी जमीनी खरीद फरोख्त विषय से ही जुड़ा हुआ है जो बहुत ही निन्दनीय है। उन्होंने कहा कि किसी भी हत्या जो सबके लिए कष्टकारी होता है उसे धर्म जाति से कभी नहीं जोड़ना चाहिए जबकि कुछ वर्षों से अपराध व हत्या जैसे वारदात को धर्म व जाति से जोड़ दिया जाता है जो मानवता के लिए अच्छा नहीं है और ऐसे मौकों पर इसे मात्र अपराध की ही संज्ञा देना चाहिए तथा दोषियों के खिलाफ हर धर्म व जाति को एक साथ मिलकर लड़ाई लड़ना चाहिए क्योंकि यह हत्या मानवता व भारतीयता की हत्या है। उन्होंने न्यायिक व्यवस्था को भी बेहतर किए जाने की बात के साथ किसी भी जघन्य मामलों में सख्त कार्रवाई की बात कहा।

संबंधित पोस्ट

ई-कॉमर्स पोर्टलों पर दी जा रही 80 फीसदी तक की छूट, कारोबारियों ने की जांच की मांग

navsatta

जंगली जानवर से टकराई टाटा सफारी, सात लोग घायल

navsatta

एसटीएफ को एक ​क्लिक पर अपरा​धियों का पूरा ब्यौरा देगा एआई बेस्ड क्रिमिनल डाटा सिस्टम

navsatta

Leave a Comment