Navsatta
खास खबरदेशमुख्य समाचार

विकास ही सफलता का माध्यम है, विकास के जरिये ही परिवर्तन लाइये: सीएम योगी

लखनऊ, नवसत्ताः मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज नवनिर्वाचित  महापौर को बधाई देते हुए कहा  कि ‘कुछ अच्छा’ और ‘कुछ नया’ करिये  क्योकिं विकास के लिए पैसे की कमी नहीं है और “विकास ही सफलता का माध्यम है, विकास के जरिये ही परिवर्तन लाइये”।

आपको बता दे कि सीएम योगी ने मंगलवार को अपने सरकारी आवास पर नव निर्वाचित सात महापौर से  मुलाकात की। सीएम योगी ने सभी महापौरों को जीत की शुभकामनाएं दीं। साथ ही पीएम मोदी के विजन ‘आत्मनिर्भर भारत’ की तर्ज पर अपने-अपने नगर निगमों को भी आत्मनिर्भर बनाने का सुझाव दिया। सीएम योगी ने नगर निगमों की आय बढ़ाने से लेकर क्षेत्रीय समस्याओं के निस्तारण के साथ ही जनप्रतिनिधियों के समर्थन के साथ सभी मेयरों को नगर निगमों की सकारात्मक छवि प्रस्तुत करने के भी निर्देश दिए।

इसी के साथ- साथ नवनिर्वाचित  महापौर ने जीत का श्रेय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दिया। जिस पर सीएम ने कहा कि विकास ही सफलता का माध्यम है। विकास के लिए पैसे की कमी नहीं है। विकास के जरिये आप परिवर्तन लाइये। आप सभी कार्यों में मानक और गुणवत्ता पर विशेष फोकस रखें। सीएम ने कहा कि प्राथमिकता बनाकर कार्य करें, जिससे हर वार्ड का समुचित विकास होगा। सीएम ने सीएसआर के पैसे से जनता से जुड़े कई बेहतर कार्य करने के भी निर्देश दिए।

नया करने का दिया सुझाव
सीएम योगी ने उपस्थित सभी महापौर को ‘कुछ अच्छा’ और ‘कुछ नया’ करने का सुझाव दिया। सीएम ने क्षेत्रीय समस्याओं के निस्तारण के प्रति सक्रिय और सजग रहने को भी कहा। उन्होंने अंडरग्राउंड केबलिंग के कार्य को प्राथमिकता पर रखने के साथ ही कूड़ा प्रबंधन में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट और लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट, स्ट्रीट लाइट को भी तरजीह देने को कहा। इसके अलावा नगरीय इलाकों में आवारा कुत्तों की समस्याओं के निराकरण व गोवंश को भी प्राथमिकता पर रखने के निर्देश दिए। सेफ सिटी के लिए मुख्यमंत्री ने जोर दिया। उन्होंने कहा कि सभी 17 नगर निगम को ‘स्मार्ट’ बनाने पर विशेष जोर है। सीएम ने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में शौचालय की सफाई व मेंटिनेंस पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने आम आदमी के लिए कन्वेंशन सेंटर बनवाने का भी निर्देश दिया। इससे निगम की आय होने के साथ लोगों को भी लाभ मिलेगा। सीएम ने बरसात से पहले नालों की सफाई और प्लास्टिक पर अंकुश लगाने को भी कहा।

विभिन्न माध्यमों से बढ़ाएं नगर निगम की आय
मुलाकात में सीएम योगी ने नगर निगमों की आय को बढ़ाते हुए उन्हें आत्मनिर्भर बनाने को प्रमुखता से रखा। उन्होंने नगर निगम के कर सुधार समेत आय के अन्य साधनों पर जोर देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि तकनीक के जरिये टैक्सेशन के लिए आम नागरिकों को सुविधाएं प्रदान की जाएं, ताकि वे सरलता से टैक्स जमा कर सकें। लोगों को टैक्स जमा करने के प्रति जागरूक किया जाए। ऑनलाइन सुविधाएं प्रदान की जाएं। सीएम ने महापौर को जनप्रतिनिधियों के संपर्क में रहने और उनसे तालमेल बनाकर काम करने के लिए भी निर्देशित किया। मल्टीलेवल पार्किंग के जरिये सड़क पर वाहन खड़े न होने का लाभ मिलेगा और इससे आय का स्रोत भी बढ़ेगा।

समान समस्याओं के निदान पर भी दिए निर्देश
सीएम ने ऐसी समस्याओं के निदान पर भी जोर दिया, जो सभी नगर निगमों में समान हैं। इनमें सड़क पर जलभराव की स्थिति को सुधारने, नाला सफाई और स्वच्छता समेत अन्य अहम समस्याएं शामिल रहीं। अवैध टैक्सी स्टैंड को लेकर भी सीएम ने चिंता जताई। उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में अवैध टैक्सी स्टैंड को चिह्नित कर उन्हें हटाने की कार्रवाई की जाएं। इन अवैध टैक्सी स्टैंड के अल्टरनेटिव पर भी काम किया जाए, ताकि आम लोगों को किसी समस्या का सामना न करना पड़े। सभी बड़े चौराहों पर इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम लगाने के निर्देश दिए गए थे, जहां अभी ये कार्य न हुआ हो वहां प्राथमिकता के आधार पर इसके क्रियान्वयन को सुनिश्चित करें। सीएम से मुलाकात करने वाले महापौर में झांसी के बिहारी लाल, अलीगढ़ के प्रशांत सिंघल, मेरठ के हरिकांत अहलूवालिया, शाहजहांपुर की अर्चना वर्मा, मुरादाबाद के विनोद अग्रवाल, गाजियाबाद की सुनीता दयाल, आगरा की हेमलता दिवाकर सम्मिलित रहीं।

संबंधित पोस्ट

जल जीवन मिशन में गोवा टॉप पर तो अपना यूपी फिसड्डी प्रदेश

navsatta

बरसात की पांच प्रमुख बीमारियां और उपाय

navsatta

प्रधानमंत्री ने दिखाई इंसानियत, कांग्रेस छोड़ने पर पहली बार आया गुलाम नबी आजाद का बयान

navsatta

Leave a Comment