Navsatta
खास खबरदेशमुख्य समाचार

प्रयागराजः रोपवे के प्रॉजेक्ट को लेकर कल लखनऊ में होगी बैठक

प्रयागराजः अब श्रद्धालु संगम या अक्षयवट, सरस्वती कूप के साथ- साथ माघ और कुंभ मेले का भी नजारा देख सकेंगे 

लखनऊ, नवसत्ताः प्रयागराज आने वाले श्रद्धालु के लिए एक बड़ी खुशखबरी है अब वह न केवल संगम या अक्षयवट, सरस्वती कूप  ब्लकि वह रोपवे से माघ मेल और कुंभ मेले के नाजारों का भी आनन्द ले पायेंगे।

बता दें कि 2025 में कुंभ के दौरान संगम में डुबकी लगाने वाले श्रद्धालुओं को रोपवे से संगम का नजारा देखने को मिल सकता है। रोपवे के लिए डीपीआर तैयार हो रहा है। जल्द ही एजेंसी का चयन भी होने की उम्मीद है।जिसे लेकर 22 मई यानी कल चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता में लखनऊ में एक बैठक होने वाली है जिसमें कुंभ के प्रॉजेक्ट्स को लेकर कई बड़ो निर्णय हो सकते हैं। इसके बाद यह प्रॉजेक्ट रफ्तार पकड़ेगा। यह प्रॉजेक्ट 2019 के कुंभ से पहले ही शुरू होना था, लेकिन सरकार इस पर आने वाले खर्च को वहन करने के लिए तैयार नहीं है। इसलिए अब इसे पीपीपी मॉडल पर बनाने की तैयारी है।

बता दे कि संगम के ऊपर से गुजरने वाले इस रोपवे को नैनी के त्रिवेणी पुष्प से झूंसी के उल्टा किला के बीच बनाने की योजना है और इस रोपवे में तीन स्टेशन और दो रूट होंगे। जिसमें पहला रूट नैनी के त्रिवेणी पुष्प से झूंसी के उल्टा किला के निकट जाएगा। जबकि दूसरा रूट त्रिवेणी पुष्प से बांध रोड के ऊपर से होते हुए सोमेश्वर महादेव मंदिर जाएगा। इसलिए तीसरा स्टेशन नैनी का सोमेश्वर महादेव मंदिर होगा।

वहीं प्रॉजेक्ट के लिए जरूरी प्रस्ताव बनाकर सरकार को काफी पहले भेजा जा चुका है, लेकिन पीपीपी मॉडल पर इसे बनाने के लिए कोई पार्टी नहीं मिल रही थी। सीएम के इस ड्रीम प्रॉजेक्ट के लिए नए सिरे से कवायद शुरू की है। करीब 2.1 किलोमीटर लंबे रोपवे निर्माण के लिए 93 करोड़ के बजट की जरूरत है। झूंसी की ओर से रोपवे के निर्माण में उल्टा किला रोड़ा बन रहा था। संरक्षित इमारत होने के कारण यहां पर निर्माण मुश्किल था। इसलिए उल्टा किला से 200 मीटर की दूरी पर रोपवे स्टेशन बनाने का नया प्रस्ताव भी भेजा जा चुका है। अगर यह प्रॉजेक्ट जमीन पर उतर गया तो इन स्टेशनों से महज 10 से 15 मिनट के भीतर पर्यटक संगम दर्शन कर सकेंगे।

संबंधित पोस्ट

आगरा: स्वतंत्रता दिवस से पहले जवानों ने किया शौर्य का प्रदर्शन

navsatta

ममता सरकार को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत, डीजीपी की नियुक्ति में ‘स्वायत्ता’ की मांग लेकर थी याचिका

navsatta

दिल्ली हाई कोर्ट का पुलिस को आदेश, कहा- कोर्ट की इमारतों की 24 घंटे करें निगरानी

navsatta

Leave a Comment