Navsatta
खास खबरदेशमुख्य समाचारराज्य

‘कृति के प्रति कृतज्ञता’ भाव का प्रतीक है लता मंगेशकर स्मृति चौक: मुख्यमंत्री

  • मुख्यमंत्री ने अयोध्या में किया भारतरत्न लता मंगेशकर स्मृति चौक का लोकार्पण
  • बोले मुख्यमंत्री, कला और संगीत के लिए लता जी ने समर्पित किया जीवन, वन्दनीय है उनकी संगीत साधना
  • अयोध्या में होगा हर चौराहे का सुन्दरीकरण, संत-महापुरुषों की स्मृति में होगा नामकरण
  • श्रीरामजन्मभूमि आंदोलन में शामिल महापुरुषों के नाम पर भी होगा चौराहों का नामकरण: मुख्यमंत्री
  • अयोध्यावासियों से मुख्यमंत्री का आह्वान, इस दीपोत्सव हर घर दीप जले

लखनऊ,नवसत्ता : ‘राम नाम’ की धुन से रामभक्तों के मन को जगाने वाली स्वर कोकिला लता मंगेशकर की यादें अब हमेशा के लिए रामनगरी अयोध्या से जुड़ गई हैं. अयोध्या में रामजन्मभूमि मंदिर की ओर जाने वाले मुख्य मार्ग के समीप स्थित नयाघाट चौराहा अब ‘लता मंगेशकर चौक’ के नाम से जाना जाएगा. लता मंगेशकर के 93वें जन्मदिन के मौके पर बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री जी.किशन रेड्डी ने इस स्मृति चौक का लोकार्पण किया.

खास मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘कृति के प्रति कृतज्ञता’ का भाव हमारी सनातन संस्कृति और परंपरा में शामिल रही है. भगवान श्रीराम के सर्वाधिक भजन गाने का गौरव लता जी को है, ऐसे में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से लता जी के प्रति कृतज्ञता स्वरूप यह चौक सँवारा गया है.

संत-मंहत, अनेक जनप्रतिनिधियों तथा स्थानीय जनता की मौजूदगी में मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘राम काज’ में जिस किसी का भी योगदान होगा, अयोध्या में उनकी स्मृति को संजोया जाएगा.

अगले एक वर्ष के भीतर अयोध्या के सभी चौराहों का सुन्दरीकरण करते हुए इनका नामकरण महर्षि वशिष्ठ, रामानुजाचार्य, गोस्वामी तुलसीदास आदि के नाम पर किया जाएगा. यही नहीं, श्रीरामजन्मभूमि आंदोलन में शामिल महापुरुषों के नाम पर भी चौराहों का नामकरण होगा.

भारतरत्न लता की 93वीं जयंती पर प्रदेशवासियों की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लता दीदी ने हमारे आस्था के प्रतीक श्रीराम व श्रीकृष्ण के भजनों की सरिता बहाई तो राष्ट्रभक्ति के गीतों को अपने स्वर से सजा कर संगीत साधना को वंदनीय बनाया. कला और संगीत के लिए उन्होंने अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया, अयोध्या में यह स्मृति चौक हमें सदैव उनसे जोड़े रखेगा.

लता जी की याद में चौक

सुन्दरीकरण करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी की प्रेरणा को मुख्य तत्व बताते हुए मुख्यमंत्री ने आभार भी जताया. साथ ही कहा कि चौक पर कोई प्रतिमा न लगाकर माँ शारदे की प्रतीक ‘वीणा’ की स्थापना की गई है. चारों ओर 07 स्तम्भ हैं जो संगीत के सात स्वरों के प्रतीक हैं. 92 कमल पुष्प हैं जो लता जी के जीवन के 92 वर्षों की याद दिलाएंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां लता जी की सम्मोहित करने वाली मधुर आवाज के साथ श्रीराम के भजन गूंजेंगे, जो श्रीरामजन्मभूमि की ओर जाने वाले हर श्रद्धालु के मन को आह्लाद से भर देंगे.

बस थोड़ी प्रतीक्षा और करें, जल्द विराजेंगे रामलला

समारोह में मुख्यमंत्री ने श्रीरामजन्मभूमि मंदिर निर्माण की तैयारियों और आम जन में रामलला के दर्शन की उत्सुकता का जिक्र भी किया. अयोध्या से अपने आत्मीय जुड़ाव की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि 2017 के बाद जब यहां आता था तो संत-महंत गण पूछते थे “कब बनेगा मंदिर” और मैं यही कहता कि भगवान परीक्षा ले रहे रहे हैं बस धैर्य बनाये रखिये. आखिर 500 साल का इंतज़ार खत्म हुआ और प्रधानमंत्री ने मंदिर की आधारशिला रखी. अब तो मंदिर बन रहा है और बहुत जल्द सभी की प्रतीक्षा समाप्त होगी.

अयोध्या के समग्र विकास के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज लता चौक तो एक शुरुआत है. आने वाले दिनों में अयोध्या अपने त्रेतायुगीन वैभव को प्राप्त करेगी. यह दुनिया की सुंदरतम नगरियों में से एक होगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि आज श्रीकाशीविश्वनाथ धाम के पुनरोद्धार के बाद इस बार श्रावण माह में 01 करोड़ श्रद्धालुओं ने बाबा के दर्शन किये. इसी तरह माँ विंध्यवासिनी परिसर का विकास भी हो रहा है, नैमिषारण्य का जीर्णोद्धार भी होगा. विकास की यह योजनाएँ रोजगार सृजन का माध्यम भी बनती हैं, जिसका सीधा लाभ हमारे युवाओं को मिलेगा.

डबल इंजन की सरकार सबके हित में काम कर रही है, लेकिन बिना जनसहयोग के कोई काम पूरा नहीं हो सकता. मुख्यमंत्री ने अयोध्यावासियों को स्वच्छता के प्रति आग्रही बनने की जरूरत पर बल देते हुए आगामी दीपोत्सव में अयोध्या के हर घर में दीपक जलाने का संकल्प भी दिलाया.

आत्मा को छूने वाली जादूगर थीं लता जी: जी किशन रेड्डी

केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डी ने कहा कि भारतरत्न लता जी गीतों के माध्यम से आत्मा को छूने की जादूगर थीं. उनके स्वर में ‘ए मेरे वतन के लोगों’ आज की पीढ़ी को भी राष्ट्रभक्ति के भाव से भर देता है. लता दीदी का जीवन हम सभी के लिए प्रेरणा है. केंद्रीय मंत्री ने खुद के तेलुगूभाषी होने की बात करते हुए केंद्रीय मंत्री ने लता जी के तेलुगु गीतों की भी याद की और कहा कि लता जी ने अलग-अलग भावों के साथ विभिन्न भाषाओं में 30 हजार से अधिक गीत गाये हैं. उन्होंने अयोध्या के समग्र विकास के लिए प्रधानमंत्री मोदी की प्रेरणा से मुख्यमंत्री योगी द्वारा किये जा रहे प्रयासों पर खुशी भी जताई.

कार्यक्रम में अयोध्या शोध संस्थान द्वारा प्रकाशित अयोध्या विशेषांक पत्रिका तथा ग्लोबल इंसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण के 10 खंडों का विमोचन भी किया गया. इससे पहले मीराबाई और गोस्वामी तुलसीदास रचित लता मंगेशकर द्वारा गाये गए भजनों की सम्मोहक प्रस्तुतियां भी हुईं.

स्मारक देख अभिभूत हुए लता के परिजन, कहा, अभिभूत हैं हम धन्यवाद के लिए शब्द नहीं

विशेष कार्यक्रम में खास तौर पर आमंत्रित लता जी के परिजन आदिनाथ और कृष्णा मंगेशकर स्मृति चौक देखकर भाव-विभोर हो उठे. अपनी स्मृतियाँ साझा करते हुए आदिनाथ ने कहा कि लता दीदी की दिनचर्या भगवान राम की आराधना के साथ ही शुरू होती थी, आज उनकी स्मृति में पावन नगरी अयोध्या में दिव्य और भव्य स्मारक का निर्माण कराना अभिभूत करने वाला है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की यह परिकल्पना अतुल्य है. इस सम्मान के लिए आभार जताने के लिए आज मेरे पास शब्द नहीं हैं. मुख्यमंत्री ने आदिनाथ और बहू कृष्णा को स्मृति चिह्न के रूप में श्रीरामजन्मभूमि मंदिर का मॉडल और वीणा भेंट की.

संबंधित पोस्ट

स्कूल बनाए गये होम आइसोलेशन सैंटर

navsatta

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के खिलाफ लखनऊ में एफआईआर,धारा 144 उल्लंघन का आरोप

navsatta

अभिनेत्री रोशनी सिंह को मिला ‘झारखंड कला रत्न’ का सम्मान

navsatta

Leave a Comment