Navsatta
खास खबरचर्चा मेंदेशस्वास्थ्य

ओमिक्रॉन की बढ़ती रफ्तार पर सरकार गंभीर, पीएम मोदी कल अधिकारियों के साथ करेंगे बैठक

नई दिल्ली,नवसत्ता: देश में बढ़ती ओमिक्रॉन की रफ्तार ने सरकार की टेंशन बढ़ा दी है. पीएम मोदी गुरुवार को कोरोना की स्थिति को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे. कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन का प्रसार तेजी से होने लगा है. देश में अब तक कुल 221 लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, ओमिक्रॉन के सबसे ज्यादा 65 मरीज महाराष्ट्र में हैं व 54 मरीज दिल्ली में मिले हैं. ओडिशा के दो व जम्मू-कश्मीर में मिले तीन संक्रमितों के साथ 14 राज्यों में ओमिक्रॉन संक्रमण फैल चुका है. अन्य राज्यों की बात करें तो तेलंगाना (20), कर्नाटक (19), राजस्थान (18), केरल (15), गुजरात (14) और उत्तर प्रदेश में (2) मामले हैं. इसके अलावा आंध्र प्रदेश में दो मामले, जबकि तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और चंडीगढ़ में एक-एक मामला है.

आंध्र प्रदेश में ओमिक्रॉन का दूसरा मामला सामने आया
आंध्र प्रदेश में एक 39 वर्षीय महिला जो केन्या से चेन्नई आई थी और फिर तिरुपति की यात्रा की वह 12 दिसंबर को कोरोना पॉजिटिव पाई गई थीं. इसके बाद उसके सैंपल को जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा गया फिर जांच के बाद वह ओमिक्रॉन संक्रमित पाई गईं. हालांकि उसके परिवार के सदस्यों ने नकारात्मक परीक्षण किया है.

सिंगापुर एयरलाइंस में वैक्सीनेटेड ट्रैवल लेन उड़ानों में नई बुकिंग बंद
सिंगापुर सरकार के निर्देश के बाद, सिंगापुर एयरलाइंस में 23 दिसंबर 2021 से 20 जनवरी 2022 के बीच सिंगापुर में सभी वैक्सीनेटेड ट्रैवल लेन उड़ानों में नई बुकिंग नहीं हो सकेगी.

महाराष्ट्र विधानसभा के 10 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव
महाराष्ट्र में आज से शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है. लेकिन इससे पहले सभी विधायक, विधानसभा स्टाफ, पुलिस और कर्मचारियों की कोरोना जांच की गईजिसमें आठ पुलिसकर्मी और मंत्रालय के दो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.
इससे पहले तेलंगाना में मंगलवार को चार नए ओमिक्रॉन संक्रमित की पुष्टि हुई थी जिसमें एक इलाज कर रहे डॉक्टर भी नए वैरिएंट से संक्रमित हो गए.

फरवरी में ओमिक्रॉन के मामले चरम पर होंगे
आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिक मनिंद्र अग्रवाल और आईआईटी हैदराबाद के वैज्ञानिक एम विद्यासागर ने बताया कि फरवरी में ओमिक्रॉन के मामले चरम पर होंगे. दोनों वैज्ञानिकों ने अपने सूत्र मॉडल के अध्ययन के अनुसार बताया कि फरवरी में 1.5 से 1.8 लाख रोजाना मामले आ सकते हैं. राहत की बात यह है कि एक महीना के भीतर यह कम भी हो जाएगा. साथ ही अनुमानों से संकेत मिलता है कि अप्रैल तक मामले काफी कम हो जाएंगे और मई तक ये गिरकर वर्तमान स्तर पर पहुंच जाएंगे.

स्वास्थ्य सचिव ने बताए पांच उपाय
स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मुख्य सचिवों को लिखा है कि डेल्टा के अलावा ओमिक्रॉन देश के अलग-अलग हिस्सों तक पहुंच गया है. इसे काबू करने के लिए सख्ती से राज्य व केंद्रशासित प्रदेशों को आगे आना होगा. सख्त कदम उठाने होंगे. उन्हें टेस्ट, ट्रैक व सर्विलांस, कंटेनमेंट जोन और नाइट कर्फ्यू की नीति अपनानी होगी.

संबंधित पोस्ट

अगले महीने ही आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, सितंबर में होगा पीक : रिपोर्ट

navsatta

Maharashtra Floor Test: शिंदे सरकार ने जीता विश्वास मत, समर्थन में पड़े 164 वोट

navsatta

नए नगरीय निकायों के लिए शुरू होगी ‘मुख्यमंत्री नगर सृजन योजना’

navsatta

Leave a Comment