Navsatta
ऑफ बीटखास खबरचर्चा मेंदेशमुख्य समाचार

राकेश टिकैत फिर सुर्खियों में, 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड के फाइनलिस्ट में हुआ चयन

लखनऊ,नवसत्ता: एक बार फिर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत सुर्खियों में आ गए हैं. दिल्ली से सटे गाजीपुर पर जारी किसान आंदोलन की अगुवाई करने वाले राकेश टिकैत इस बार 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड को लेकर चर्चा में हैं. मिली जानकारी के अनुसार, राकेश टिकैत 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड के फाइनलिस्ट चुने गए हैं.

दरअसल, इतना लंबा किसान आंदोलन चलाने और आंदोलन को जीवंत रखने की वजह से राकेश टिकैत का चयन किया गया है. ब्रिटेन की राजधानी लंदन में आगामी 10 दिसंबर को विजेताओं की घोषणा की जाएगी.

टिकैत ने हार नहीं मानी
गौरतलब है कि लोकसभा में कृषि कानून पास होने से लेकर कृषि कानून निरसन विधेयक पारित होने तक किसान नेता राकेश टिकैत ने कई मुश्किलों का सामना किया. कई दफा लगा की आंदोलन खत्म हो जाएगा, लेकिन टिकैत ने हार नहीं मानी, और किसान आंदोलन में जान फूंकते रहे, जिसका नतीजा ये हुआ कि सरकार को किसानों की मांग माननी पड़ी, और आखिर में कृषि कानून वापस ले लिया.

किसान आंदोलन के दौरान देश ने अलग-अलग तरह की घटनाओं का भी सामना किया. इन सब के बीच राकेश टिकैत ने आंदोलन को मरने नहीं दिया. एक समय ऐसा भी आया था, जब धरनास्थल का बिजली-पानी काटा दिया गया. तब भी अनशन पर बैठे राकेश टिकैत ने हिम्मत नहीं हारी उन्होंने कहा अब पानी तभी पीऊंगा जब गांव से पानी आएगा

आंसुओं की वजह से अचानक राकेश टिकैत आ गए लाइमलाइट में
दरअसल, किसान आंदोलन पर सबसे बड़ा संकट गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान आया. हिंसा के बाद सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पुलिस छावनी में तब्दील कर दिए गये. किसान नेताओं के खिलाफ केस दर्ज. हिंसा में शामिल लोगों की गिरफ्तारी की गई. कई बड़े-बड़े नेताओं पर गिरफ्तारी की तलवार लटक गई. लगने लगा की अब आंदोलन खत्म हो जाएगा.

तभी अचानक राकेश टिकैत का रोते हुए एक विडियो सामने आया, जो देखते ही देखते आग की तरह पूरे देश में फैल गया, और इस तरह एक बार राकेश टिकैत के आंसुओं ने मरते आंदोलन को जिंदा कर दिया. टिकैत के समर्थन में एक बार फिर देश के अलग अलग हिस्सों से किसान पहुंच गए. इसी का नतीजा है कि संयुक्त किसान मोर्चा के अहम नेताओं में शुमार भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड के फाइनलिस्ट बन गए हैं.

संबंधित पोस्ट

“अफसोस आपन यूपी रहा फिसड्डी” गोवा में मिशन जल जीवन योजना पूरी, पीएम मोदी ने दी बधाई

navsatta

जम्मू कश्मीर: उधमपुर में हेलीकॉप्टर क्रैश, पायलट व सह-पायलट घायल

navsatta

महाराष्ट्र में ट्रक-बस की टक्कर से 8 लोगों की मौत, 13 घायल

navsatta

Leave a Comment