Navsatta
खास खबरचर्चा मेंदेशराजनीति

विपक्ष के हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानूनों की वापसी का बिल पास

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा

नई दिल्ली,नवसत्ता: संसद का शीतकालीन सत्र आज विपक्ष के हंगामे के बीच शुरू हुआ. सत्र के पहले दिन आज तीनों कृषि कानून को निरस्त करने का विधेयक पेश किया गया जो विपक्ष के हंगामे के बीच लोकसभा से पास हो गया. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यह बिल लोकसभा में पेश किया, जिसके बाद इसे ध्वनिमत से पारित कर दिया गया.

बताते चलें कि लोकसभा की बिजनेस एडवाइजरी कमिटी की बैठक में कांग्रेस और टीएमसी ने 3 कृषि कानूनों के निरस्तीकरण करने वाले बिल पर चर्चा की मांग की. जबकि केंद्र सरकार इस बिल पर चर्चा के बजाए, सीधे पेश और ध्वनिमत से पास करवाना चाहती है. बीएसपी और बीजेडी के नेताओं ने भी कहा चर्चा की बजाय इसे जल्द पास किया जाना उचित होगा.

लोकसभा में किसानों के मुद्दे पर विपक्ष के हंगामें पर स्पीकर ओम बिरला ने कहा कि पहला दिन है जनता देख रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत से पहले सीनियर कैबिनेट मंत्रियों, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, गृहमंत्री अमित शाह, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमार, कॉमर्स मिनिस्टर पीयूष गोयल और संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी के साथ मीटिंग की.

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम सभी को कोविड-19 के नए वेरिएंट से अलर्ट रहने की जरूरत है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि सरकार खुली चर्चा को तैयार है. हर सवाल का जवाब देना चाहती है. सवाल भी हो शांति भी हो. उन्होंने कहा कि स्पीकर और चेयर की गरिमा का ऐसे ख्याल हो कि आने वाले पीढ़ियां इससे सीख लें.

पीएम मोदी ने कहा कि देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. संसद का शीतकालीन सत्र अत्यंत महत्वपूर्ण है. संविधान दिवस पर पूरे देश ने एक संकल्प किया है इन सबके परिप्रेक्ष्य में हम चाहेंगे देश चाहेगा हर नागरिक चाहेगा कि संसद का सत्र आजादी के दीवानों के स्प्रिट के अनुकूल, संविधान के अनुकूल संसद भी देश हित में चर्चाएं करें.

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र के तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर पार्टी के विरोध का नेतृत्व किया. टीआरएस एमपीनामा नागेश्वर राव ने ‘खाद्यान्न खरीद पर राष्ट्रीय नीति’ पर चर्चा को लेकर लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया. शीतकालीन सत्र शुरू होने पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और सांसद राहुल गांधी संसद पहुंचे.
कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने लोकसभा में ‘कृषि कानूनों के विरोध में जान गंवाने वाले किसानों का रिकॉर्ड बनाने और उनके परिवारों को मुआवजा देने’ के लिए सरकार को निर्देश देने के लिए चर्चा करने के लिए स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया.

संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत से पहले आप सांसद संजय सिंह ने कहा है कि कृषि कानूनों को रद्द करने का बिल लेकर आ रही है, लेकिन इस सरकार ने 750 किसानों की शहादत ली है. किसानों के मन में आशंका है कि ये सरकार कब क्या कर दे, उन्हें भरोसा नहीं. आज प्रधानमंत्री को सदन में ये स्पष्ट करना चाहिए कि ये बिल दोबारा इस संसद में नहीं आएगा.

बता दें कि महीने भर चलने वाले इस सत्र में 26 विधेयकों को संसद में पेश करने के लिए सूचीबद्ध किया जाएगा. संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच चलेगा.

संबंधित पोस्ट

बीएसएनएल कर्मचारी हड़ताल पर, कहा- निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाना चाहती है सरकार

Editor

Supreme Court: अग्निपथ से जुड़ी सभी याचिकाएं दिल्ली हाईकोर्ट ट्रांसफर

navsatta

हरिद्वार कुंभ के दौरान फर्जी कोरोना टेस्टिंग मामले में एसआईटी ने नामित फर्मों को दिया 4 दिन का समय

navsatta

Leave a Comment