Navsatta
आस्थाखास खबरराजनीतिराज्य

सरकार बनने पर विश्वकर्मा पूजा की छुट्टी बहाल होगी: अखिलेश

ये सरकार अहंकारी है इसका जाना तय है- अखिलेश

जो पार्टी हमारे समाज को टिकट देगी हम उसके साथ-विश्राम शर्मा

योगी सरकार ने खत्म की विश्वकर्मा पूजा की छुट्टी-विश्राम शर्मा

हमें राज्यसभा और विधान परिषद में भी भागीदारी मिले- विश्राम शर्मा

संजय श्रीवास्तव

लखनऊ,नवसत्ता: विश्वकर्मा पूजा के मौके पर समाजवादी पार्टी कार्यालय पर अखिल भारतीय विश्वकर्मा महासभा का कार्यक्रम आयोजित किया गया। विश्वकर्मा समाज के लोहार बढ़ई सुनार स्वर्णकार कुम्हार आदि जातियों के हजारों लोगों की मौजूदगी में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद रहे। इस मौके पर अखिलेश यादव ने बीजेपी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर विश्वकर्मा समाज का अपमान करने का आरोप लगाया, साथ ही ऐलान किया कि सत्ता में आने पर विश्वकर्मा पूजा की छुट्टी बहाल करेंगे। यही नहीं लखनऊ में गोमती नदी के किनारे भगवान विश्वकर्मा के भव्य मंदिर का निर्माण कराएंगे।

अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य में बारिश से भारी क्षति और जान का भी नुकसान हुआ। सरकार ने कोई इंतजाम नहीं किया था। अब ये सरकार जाने वाली है। इस सरकार में हर वर्ग का आदमी अपमानित हुआ है और इस सरकार ने झूठ का रिकॉर्ड बनाया है। समाज मे हर तरफ झूठ फैलाया जा रहा है। अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने विश्वकर्मा पूजा की छुट्टी खत्म करके विश्वकर्मा समाज का अपमान किया है। हमने विश्वकर्मा पूजा की छुट्टी की थी। भगवान हनुमान का गदा, भगवान कृष्ण का चक्र विश्वकर्मा समाज ने ही बनाया था और उनकी ही छुट्टी खत्म कर दी।

अखिलेश ने कहा कि योगी सरकार सिर्फ नाम बदलने का काम कर रही है। उन्होंने सरकार से पूछा- 5 ट्रिलियन इकोनॉमी का सपना कहां गया? मुख्यमंत्री ने 1 ट्रिलियन इकॉनमी के लक्ष्य की बात कही थी, कहां है? लखनऊ में बड़े-बड़े कागजों पर दस्तखत हुए थे, बड़े-बड़े एमओयू साइन हुए थे। अखिलेश यादव ने कहा कि कोरोना में लोगों की कितनी जान चली गयी, अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं था, बेड नहीं था. कोरोना काल में समाजवादियों की चलाई गई एम्बुलेंस काम आयी, ऐसा लॉक डाउन किया कि गरीब की जान चली गयी. सरकार ने सही समय पर लॉकडाउन नहीं किया. गंगा मां में लाशें बह रही थीं, बजाए व्यवस्था सुधारने के सरकार ने सवाल करने वालों के ही खिलाफ मुकदमे करा दिए जेल तक भिजवा दिया। अखिलेश ने कहा ये अंहकारी सरकार है और इसका जाना तया है।

अखिल भारतीय बढ़ई समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष विश्राम शर्मा ने बाताया कि विश्वकर्मा समाज का 6 प्रतिशत वोट है जिसमें बढ़ई 2.5 प्रतिशत और लोहार 2 प्रतिशत बाकी सुनार कुम्हार स्वर्णकार आदि लगभग 2 प्रतिशत हैं। और हमारे समाज का वोट 100 प्रतिशत तक पोल होता है। ऐसे में सभी पार्टियां इस समाज का वोट बटोरने की पूरी कोशिश करती हैं। लेकिन सपा को छोड़कर किसी पार्टी ने हमारे समाज को टिकट नहीं दिया और कहीं कुछ बनाया भी नहीं, सपा की पिछली सरकार में राम आसरे विश्वकर्मा मंत्री भी बने थे, सपा सरकार ने विश्वकर्मा पूजा की छुट्टी भी की थी, जो योगी सरकार में समाप्त कर दी गई। इस बार हमारा समाज उसी पार्टी को वोट करेगा जो हमें टिकट भी देगा और राज्यसभा विधान परिषद में भी भेजेगा।

 

 

संबंधित पोस्ट

उत्तर प्रदेश में सी-295 विमानों का होगा निर्माण, टाटा एयरबस का लगेगा प्लांट

navsatta

चीन की कमान फिर से शी जिनपिंग के हाथ में, लगातार तीसरी बार चुने गए कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव

navsatta

खुशखबरी: नि:शुल्क होगा असंगठित क्षेत्र के मजदूरों का रजिस्ट्रेशन

navsatta

Leave a Comment