Navsatta
खास खबरन्यायिकराजनीतिराज्य

कोरोना की तीसरी लहर से पहले लोकायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव को भेजा नोटिस

नई दिल्ली,नवसत्ता : देश में कोरोना की तीसरी लहर से पहले लोकायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव को दस लाख के बच्चों के वेंटिलेटर 22 लाख में खरीदने की शिकायत पर नोटिस भेजा है। जिसमें कहा गया है कि बच्चों के लिए खरीदे गए वेंटिलेटर घोटाले की जांच हो। बता दें कि आम आदमी पार्टी के शिकायतकर्ता वैभव माहेश्वरी के पत्र पर प्रमुख सचिव स्वास्थ्य आलोक कुमार को नोटिस भेजा गया है।

लोकायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव को दस लाख के बच्चों के वेंटिलेटर 22 लाख में खरीदने की शिकायत पर नोटिस भेजकर 23 तारीख को तलब किया है।

गौरतलब है कि इससे पहले आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने कहा कि कोरोना महामारी की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए योगी सरकार तैयारी के नाम पर वेंटिलेटर समेत कई चिकित्सकीय उपकरण दो से तीन गुना कीमत पर खरीद रही है।

सभाजीत सिंह ने योगी सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि मासूमों के लिए वेंटिलेटर की पूरी खरीद महाराष्ट्र की एक ब्लैक लिस्टेड कंपनी से बिना टेंडर किए ही कर रही है। उन्होंने कहा कि वेंटीलेटर खरीद में 5880 लाख रुपए का भ्रष्टाचार हुआ है। इस भ्रष्टाचार की उच्च स्तरीय जांच की मांग को लेकर यह धरना प्रदर्शन शुरू किया जा रहा है। आम आदमी पार्टी महामारी के इस दौर में बच्चों के नाम पर इस तरह से भ्रष्टाचार कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।

आप ने लगाए थे यह आरोप –
चिकित्सा शिक्षा विभाग में करोड़ों का घोटाला।
बिना टेंडर ब्लैक लिस्टेड कंपनी से सीधे खरीद।
10 लाख का वेंटिलेंटर 22 लाख में खरीदा।
14 लाख की आरटीपीसीआर मशीन 49 लाख में खरीदी।
बच्चों के लिए बने पी आईसीयू में भारी घपला।
शासन ने सीधे प्राइवेट कंपनी से खरीद की।

संबंधित पोस्ट

सेना के अस्पतालों के लिए जर्मनी से आयात किये जायेंगे आक्सीजन संयंत्र

navsatta

बाढ़ के समय जन-धन की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता, अलर्ट मोड में रहें सभी जिले: मुख्यमंत्री

navsatta

शहीद भगतसिंह से सिसोदिया की तुलना निंदनीय : कांग्रेस

navsatta

Leave a Comment