Navsatta
Uncategorized

यूपी में राहुल गांधी और प्रियंका की होंगी 15-18 बड़ी रैलियां

यूपी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की 15-18 बड़ी रैलियां होंगी। इनमें से अधिकांश रैलियों में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा समेत प्रमुख नेता भी मौजूद रहेंगे। रैलियों के लिए उन लोकसभा क्षेत्रों को तरजीह दी जाएगी, जहां कांग्रेस अच्छी फाइट में है। या फिर, मीडिया की अच्छी उपस्थिति के कारण जहां से कांग्रेस का संदेश पूरे प्रदेश में जा सके। प्रदेशस्तरीय पार्टी कोर टीम को 29 मार्च की शाम तक प्रस्तावित कार्यक्रम की रूपरेखा हाईकमान को भेजने के निर्देश दिए गए हैं। पहले फरवरी-मार्च में कांग्रेस ने लखनऊ समेत प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में 9 बड़ी रैलियां करने की योजना बनाई थी। लेकिन, बाद में हाईकमान के स्तर से तय हुआ कि प्रत्याशी घोषित करने के बाद ही बड़ी रैलियां की जाएं। विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी घोषित करने से पहले राहुल गांधी की खाट सभाएं और जनसभाएं कराई गई थीं, लेकिन उसका अपेक्षित परिणाम नहीं मिला। वहीं, प्रत्याशी तय होने के बाद उस क्षेत्र में उसे ही कांग्रेस पार्टी और अध्यक्ष राहुल गांधी का चेहरा बताकर समर्थन मांगा जाएगा। पार्टी के भरोसेमंद सूत्रों के मुताबिक, ये बड़ी रैलियां सहारनपुर, गाजियाबाद, बरेली, फतेहपुर सीकरी, अलीगढ़, लखनऊ, फैजाबाद, बाराबंकी, कुशीनगर, प्रतापगढ़, इलाहाबाद, कानपुर-उन्नाव, कुशीनगर, वाराणसी और झांसी लोकसभा क्षेत्रों में होंगी। इसके अलावा करीब तीन रैलियां उन मंडल मुख्यालयों पर प्रस्तावित हैं, जो इन लोकसभा क्षेत्रों से बाहर हैं। कांग्रेस के एक पदाधिकारी ने नाम न छापने के आग्रह पर बताया कि लखनऊ और वाराणसी की रैलियों पर सबसे ज्यादा जोर रहेगा, क्योंकि यहां से कांग्रेस के चुनावी वादे पूरे देश और प्रदेश में आसानी से प्रचारित व प्रसारित हो सकेंगे। राहुल-प्रियंका की रैलियों समेत सभी प्रमुख कार्यक्रमों के लिए एक अनौपचारिक कोर टीम गठित की गई है। यह कोर टीम सीधे दिल्ली स्थित वार रूम से जुड़ी रहेगी। रैलियों का प्रस्तावित कार्यक्रम भी यही टीम भेजेगी, जिसे अंतिम रूप दिल्ली स्थित कार्यालय से दिया जाएगा। पीलीभीत में मनमोहन सिंह की होगी जनसभा कांग्रेस पीलीभीत में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की जनसभा कराने पर गंभीरता से विचार कर रही है। यह सीट कांग्रेस ने गठबंधन के तहत अपना दल को दी है। इस सीट पर कुर्मी जाति के साथ ही सिख मतदाता भी अच्छी खासी संख्या में हैं। कांग्रेस के तरकश में रहेंगे यूपी के ये प्रमुख मुद्दे न्यूनतम आय गारंटी योजना जैसे राष्ट्रीय मुद्दों अलावा कांग्रेस ने यूपी में होने वाली रैलियों में यहां के विशेष मुद्दे भी उठाने का निर्णय लिया है। इनमें शिक्षामित्र, रोजगार सेवक, आशा वर्कर, आंगनबाड़ी वर्कर व सहायक, मदरसा शिक्षक, रसोइये, जन सेवा केंद्र के कर्मी, बाढ़ पीड़ित, कम्प्युटर अनुदेशक और शिक्षा प्रेरकों के मुद्दे प्रमुख रहेंगे। पुलिस भर्ती व शिक्षक भर्ती में सामने आईं अनियमितताओं को भी उठाया जाएगा। बंद चीनी मिल को चालू करने और चालू चीनी मिलों की हालत सुधारने के बारे में भी कांग्रेसी नेता मुकम्मल हल सुझाएंगे। गन्ना और आलू किसानों की समस्याओं को भी जोरशोर से उठाया जाएगा। यूपी के लिए एक अलग से चुनावी घोषणापत्र भी जारी होगा, जिसमें भी ये सब मुद्दे रहेंगे। रैली स्थल पर इन घोषणापत्रों को बड़े पैमाने पर वितरित भी किया जाएगा।

संबंधित पोस्ट

कोरोना वायरस के फैलने में चीन के वुहान का है रोल

Editor

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के घर सीबीआई का छापा, केजरीवाल बोले- स्वागत है

navsatta

एक बार फिर लाकडाउन बढ़ा सकती है मोदी सरकार!

Editor

Leave a Comment